Blog

आओ GST का विरोध नहीं स्वागत करें ! Two Taxes CGST and SGST

GST आने से ये सब ख़त्म हो जाएगा सदा के लिए –

  • Central Excise Duty
  • Excise Duty levied under the Medicinal Preparations (Excise Duties) Act, 1955
  • Additional Customs Duty (CVD)
  • Special Additional Duty of Customs, Central Surcharge and Cess
  • VAT / Sales Tax
  • Entertainment tax (other than the tax levied by local bodies)
  • Central Sales Tax
  • Octroi and Entry Tax
  • Purchase Tax
  • Luxury Tax                                                     आओ GST का विरोध नहीं स्वागत करें
  • Taxes on Lottery
  • State Cesses and Surcharges
  • Road Permit

 

GST के अंतर्गत वसूली गयी टैक्स की रकम किसको जाएगा …

  1. राज्य के अंदर लेन – देन व्यापार किया तो :: व्यापारी CGST & SGST दोनों लेगा ग्राहक से, CGST केंद्र सरकार के ख़ाते में जमा कराएगा और SGST राज्य सरकार के ख़ाते में जमा कराएगा … इससे ग्राहक को कोई सरोकार नहीं वो व्यापारी का काम है |

  2. अंतर्राज्यीय लेन – देन व्यापार किया तो : IGST लगेगा जो की भेजे जाने वाले राज्य पर निर्धारित होगा। केंद्र सरकार द्वारा अंतरराज्यीय व्यापार या वाणिज्य के जरिये माल की आपूर्ति पर एक अतिरिक्त कर लगाने का दो साल की अवधि के लिए प्रस्तावित है। इससे ग्राहक को कोई सरोकार नहीं वो व्यापारी का काम है |

आइये दो उदाहरण से समझते हैं –

पहला उदहारण व्यापार करने वालों के लिए – अभी का कर सिस्टम :-

लखनऊ से पंजाब माल भेजने पर :::
दाम = 1000. 00
VAT = 10% = 100.00
कुल दाम = 1100.00
इस माल को पंजाब से हिमाचल भेजा गया।
मुनाफा लगाया = 1000 तो कुल दाम हुआ =2100.00
VAT 10% = 210.00
कुल दाम ग्राहक को = 2310.00

अब यही मामला GST लगने के बाद :-

लखनऊ से पंजाब माल भेजने पर :::
दाम = 1000. 00
CGST 5% = 50.00
SGST 5% = 50.00
कुल दाम = 1100.00
इस माल को पंजाब से हिमाचल भेजा गया।
मुनाफा लगाया = 1000 तो कुल दाम हुआ =2100.00
IGST = 10 % = 210.00
टैक्स input 210 – 100 = 110
कुल दाम ग्राहक को = 2210.00

ग्राहक को फायदा हुआ रुपये 100 का |

दूसरा उदहारण उत्पादन करने वालों के लिए , अभी का कर सिस्टम :-

उत्पादन लागत = 100000.00
मुनाफा जोड़े 10% = 10000.00
Excise = 12.5% = 13750.00
उत्पादन के बाद दाम = 123750.00
VAT 12% = 15469.75
उत्पादन करने वाले का फाइनल इनवॉइस व्होलसेलर को = 139218.75
व्होलसेलर का मुनाफा 10% = 13921. 80
VAT 10% = 15314.00
दाम रिटेलर को = 168454.65
रिटेलर मुनाफ़ा 10% = 16845.50
VAT 10% = 18530.00
ग्राहक को दाम = 203830.17

अब यही गणित नए GST के अंतर्गत :-

उत्पादन लागत = 100000.00
मुनाफा जोड़े 10% = 10000.00
Excise = 0 % = 0.00
उत्पादन दाम = 110000.00
SGST @5% = 5500.00
CGST @5% = 5500.00
उत्पादन करने वाले का इनवॉइस वैल्यू = 121000.00
मुनाफा 10% = 12100.00
व्होलसेलर को दाम = 133100.00
SGST @5% = 6655.00
CGST @5% = 6655.00
व्होलसेलर की इनवॉइस रिटेलर को = 146410.00
रिटेलर मुनाफ़ा 10% = 14641.00
दाम = 161051.00
SGST @5% = 8053.00
CGST @5% = 8053.00
ग्राहक को दाम = 177157.00

ग्राहक को कुल मुनाफा = 26673.00

अतः एक जुलाई के बाद से जो भी ग्राहक बिल नहीं लेगा वो खुद के नुक्सान का जिम्मेदार होगा … मांग कर जबरदस्ती बिल लेना हमारे – आपके लिए मुनाफे का सौदा है … कुछ चोर टाइप व्यापारियों के चक्कर में न पड़ें … GST का स्वागत करें |

About the author

Rowdy Marketer

Sumant owner of Rowdymarketer is a master in Digital Marketing as well as certified with Microsoft Bings Ads and Google Certified.He is Expert in the technical, conceptual and content development of sales-driving collateral. Proven ability to drive record-high marketing campaign response rates and execute successful product launches.